यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, अगस्त 23, 2010

अलगाव वादियों होशियार

नमक हिंदुस्तान का खाते रहिये
पाकिस्तान जिंदाबाद नारा लगाते रहिये

कश्मीर है हमारा इसे छीन न सकोगे
लड़िये हर बार और मुह की खाते रहिये ............

हम पत्थर नहीं हर वक़्त मददगार है
भूकंप हो या बाढ़ आजमाते रहिये .........................

दुश्मनी करके हो जाओगे तबाह एक दिन
चीन के झांसे में यूँ न आते रहिये .......................

दौर है कठिन इतराना छोड़ दे
कबूल कर मदद माथे से लगाते रहिये ....................

भाई भतीजावाद

न नक्सल से खतरा है
न डर है आतंकवाद से
देश मेरा बर्बाद हो गया
भाई भतीजावाद से ..............

डिग्री लेकर देशभक्त
बन बैठा है संतरी
अनपढ़ बीवी को नेता जी
बना बैठे मुख्यमंत्री

किसी ने चारा बेच दिया
कोई कमाया यूरिया खाद से .......देश मेरा बर्बाद ................

चपरासी बन ने के खातिर
आठवां पास जरूरी
बिना पढ़े लिखे बने मंत्री
ऐसी क्या मजबूरी

यमराज जी हमें बचा लो
नेता रुपी जल्लाद से ...................देश मेरा बर्बाद ...................