यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, अगस्त 23, 2010

अलगाव वादियों होशियार

नमक हिंदुस्तान का खाते रहिये
पाकिस्तान जिंदाबाद नारा लगाते रहिये

कश्मीर है हमारा इसे छीन न सकोगे
लड़िये हर बार और मुह की खाते रहिये ............

हम पत्थर नहीं हर वक़्त मददगार है
भूकंप हो या बाढ़ आजमाते रहिये .........................

दुश्मनी करके हो जाओगे तबाह एक दिन
चीन के झांसे में यूँ न आते रहिये .......................

दौर है कठिन इतराना छोड़ दे
कबूल कर मदद माथे से लगाते रहिये ....................

1 टिप्पणी: