यह ब्लॉग खोजें

शुक्रवार, फ़रवरी 16, 2018

ना आवाम के रहे ,
ना राम के रहे ,
सत्ता पाने के बाद 
कहाँ  किसी काम के रहे। 
                                    नादान 

लिखित परीक्षा

तनख्वाह घटा दीजिये
सब्सिडी हटा दीजिये
बस हर मोहल्ले में  संसद जैसी , कैंटीन खुलवा दीजिये

संतरी बन रहे है लिखित परीक्षा से
मंत्री बनने को भी एक लिखित इम्तिहान करवा दीजिये 

zindagi guzar gayee

कली बनी, फूल बनी , और पंखुड़ी बन बिखर गयी ,
हम समझ न पाए ठीक से और ज़िन्दगी गुज़र गयी
                                                                        नादान 
बुजुर्गों की शान को कुछ और दिन बरकार रहने दे
आँगन पूरा ले ले तू उठाने को बीच में दीवार रहने दो
                                                                    नादान 

pareshaa

रास्ते कटीले हो गए 
जिंदगी के सफर के 
खुद परेशां हो गया 
हमें  परेशां करके 
                            नादान  

शुक्रवार, फ़रवरी 02, 2018

बुधवार, जनवरी 31, 2018