यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, सितंबर 07, 2010

ईद मुबारक!


ख़ुदाया बना कोई ऐसा निज़ाम,
जहाँ
सबकी ख़ुशियों का हो इंतज़ाम
रहे
गर बाक़ी कोई बदनसीब,
तो
हो जाए 'अनवार' अपनी भी ईद