यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, सितंबर 07, 2010

ईद मुबारक!


ख़ुदाया बना कोई ऐसा निज़ाम,
जहाँ
सबकी ख़ुशियों का हो इंतज़ाम
रहे
गर बाक़ी कोई बदनसीब,
तो
हो जाए 'अनवार' अपनी भी ईद

1 टिप्पणी:

  1. anwar bhai, eid bahut bahut mubaraq ho, aap jaisi meri bhi bandgi hai khuda se ki sab ko khushiyan bakshe taaki gam ka naam zamane me na ho.

    उत्तर देंहटाएं