यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, फ़रवरी 27, 2010

जय हो सचिन...............


दोहरे शतक का देख धमाका
होली में भी दागे पटाखा
पूरा विश्व है नतमस्तक
सीना चौड़ा भारत माँ का

कोई क्रिकेट का भगवान कहे
कोई कहे क्रिकेट का आका
चाहे कुछ भी कह लो पर
लाल है वो भारत माँ का

२४ को ही जनम तुम्हारा
२४ को ये ग़ज़ब नज़ारा
तानसेन की नगरी में
कौन सा था सुर तुम्हारा

छोटे कद के काम बड़े
किये भारत के नाम बड़े
जैसे बढे उम्र तुम्हारी
दे रहे अंजाम बढे

तुमसे खेल की जान है
तुमसे ही अपनी शान है
तुम जैसे नगीनो से
भारत बना महान है.............
नादान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें