यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, मई 20, 2010


शहर की बड़ी पार्टियों में दिखते है
चाँद रुपयों के खातिर बिकते है
कलम भी शर्मिंदा है उनसे
जो कातिल को बेगुनाह लिखते है
नादान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें