यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, मार्च 11, 2010



कुछ जुदा जुदा मेरे हुज़ूर नज़र आते है
क्या बात है चश्मे बद्दूर नज़र आते है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें