यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, मार्च 01, 2010


तीर नज़रों से चलाये जा रहे है
क्या बात है जो मुस्कराएँ जा रहे है

नादान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें