यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, मई 17, 2011

करूणानिधि की पुकार

नमक डाल दिया क्यूँ मेरे घाव में
छेद कर दिया डूबती नाव में
अब क्या होगा मेरे परिवार का
सत्ता भी गयी अबकी चुनाव में
....................

नादान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें