यह ब्लॉग खोजें

रविवार, फ़रवरी 28, 2010



उपर वाले का हम पर अहसान हो गया
छोटा ही सही अपना मकान हो गया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें