यह ब्लॉग खोजें

रविवार, फ़रवरी 28, 2010



आइना वही पर तस्वीर बदलते दखी मैंने
तुम मिले तो खुद की तकदीर बदलते दखी मैंने

नादान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें