यह ब्लॉग खोजें

रविवार, फ़रवरी 28, 2010

तस्वीर का राज


तेरी तस्वीर को लगा के रखता हूँ सीने से
क्योंकि कलेजा हो गया छलनी सुबह शाम पीने से


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें